Sunday, November 6, 2011

यादों से भरे हुए, सियाह पन्ने

यादों से भरे हुए, सियाह पन्ने पलटने का वक़्त था,
थोड़ा सोच कर कुछ उठाए और कुछ जला दिए |

फरवरी का दरवाज़ा एक खुला था उस कहानी में,
ज़िद कर के मैंने उसे सुनाने को किया था मजबूर |
जाने कहाँ से उठाई थी कहानी उसने एक अनकही,
शायद किसी किसान के बेटे से जिसे वोह पढ़ाती थी |
फसल की कटाई के बारे में थी कहानी, अजीब सी,
सुनाते-सुनाते जिसे वोह सो भी गयी थी, पर मैं नहीं |

कहानियां तो और भी बहुत सी सुनाई गयीं थी मुझे,
कभी इतना ध्यान मैंने दिया नहीं, ख़ास लगीं नहीं |

दूसरी एक कहानी मैंने ही बनायी थी किसी के साथ,
नदिया के पार जाने की जुस्तजू वाली एक कहानी |
श्याम काका का तांगा, नीम के पेड़ के नीचे चबूतरा,
तरबूज़ की फांकों के पैसे देने के लिए लड़ना-झगड़ना |
मेरे लिए पेड़ से आम कोई तोड़ रहा था, गा रहा था |
अब वोह दूसरा ज़माना लगता है, और वोह परायी |

तीसरी कहानी लिखी जा रही है, रास आ रही है |
बातों ही बातों में बनती गयी, चलती गयी इस बार |

मुझे थामे हैं बाहें और मेरी ख्वाहिशें हो रही हैं पूरी,
ज़रुरत भी नहीं रहती कभी-कभी कुछ भी कहने की |
आँखों से दास्तानें कई बनती जाती हैं हर दिन अब,
जो बचता है वोह लब सुन लेते हैं लबों से चुप्पी में |
आवाज़ कानों में शहद घोलती हुई मुझे छेड़ती है,
मैं माज़ी से दूर, नयी कहानी की एक किरदार हूँ |

कहीं टकरा गया अतीत मेरा राहों में अब तो क्या?
नए-पुराने लोग, एक नोवेल का शायद हिस्सा हैं |

8 comments:

  1. Awesome:)
    Yaadein bhi ajeeb hain..dil ke bahut kareeb hain..
    hum unki yaadon mein mashruf hain.
    apne hi dil ke haathon mazbur hain..

    ReplyDelete
  2. Beautiful work, as usual.

    B, YOU SHOULD POST OFTEN...

    Keep writing. :)

    ReplyDelete
  3. Great work again Vitz...Keep the good work up..! :)

    ReplyDelete
  4. i jst wanted 2clarify tht d tweet 2dy wz not intended 2wards u, it wz in support of ur tweet(wch i thot tht sm1 is naggig u).. it wz a misunderstading & wz taken by u as ur insult..i'hv nvr dis-respected female in my life of 22yrs unless i c tht sm1 is insulting a grl & in dis case thts xactaly wht i did..once again im sorry if i caused u any dis-comfort..so tht u knw i'hv mom & sister2..i respect fairness...blue_man905..7th nov @10.20pm EST

    ReplyDelete
  5. hindi achchhi hai. kavita theek thaak. :)

    it looks like the transliteration screws up the hindi spellings.

    ReplyDelete