Saturday, October 8, 2011

~~~...बेफिक्र...~~~

जब मेरी बाहों से घिरी हुई,
मेरे काँधे पर रख कर सर
सोती है वोह तो लगता है 
सारी कायनात थम जाए |
रुक जाए बस वहीँ, उसी
इक लम्हे में कैद हो जाएँ,
ज़िन्दगी गुज़ार दें, बेफिक्र |

6 comments:

  1. क्या बात है! बहुत खूब :)

    ReplyDelete
  2. beautiful, except for the mix of past tense into future tense..

    ReplyDelete
  3. Nice one Baavri, keep it up (Y) :D

    ReplyDelete